जिन्दा हूँ मैं आज भी तुझमें कहीं। 

जिन्दा हूँ मैं आज भी तुझमें कहीं 

यकीन है मुझे अब भी यही 

कभी कभी तेरे संग बिताये लम्हे याद आते हैं 

कभी चेहरे पर मुस्कान 

तो कभी आँखों में नमी दे जाते हैं 

वह एहसास जब तू साथ था आज भी है 

रखा है उसको दिल में दबा के कहीं 

जिन्दा हूँ मैं आज भी तुझमें कहीं 

यकीन है मुझे अब भी यही 

जब तू मिला था तो एक अजनबी था 

न जाने कैसे हमदम बन गया 

बातें तो की थी उम्र भर साथ चलने की 

फिर क्यों मुझे बीच राह में छोङ गया 

अब भी चुभती है ये बातें कभी कभी 

जिन्दा हूँ मैं आज भी तुझमें कहीं 

यकीन है मुझे अब भी यही। 

-आस्था गंगवार 

Zinda hu mai aj bhi tujhme khi 

Yakeen h mujhe ab bhi yhi 

Kbhi kbhi tere sang bitaye lmhe yad ate h 

Kbhi chehre pr muskaan 

To kbhi ankho me nami de jate h 

Wo ahsas jb tu sath tha aj bhi h 

Rakha h usko dil me daba ke kahi 

Zinda hu mai aj bhi tujhme khi 

Yakeen h mujhe ab bhi yhi 

Jab tu mila tha to ek ajnabi tha 

Na jane kaise hmdam bn gya 

Bate to ki thi umr bhr sath chlne ki 

Fir q mujhe bich rah me chhor gya 

Ab bhi chubhti h ye bate kbhi kbhi 

Zinda hu mai aj bhi tujhme khi 

Yakeen h mujhe ab bhi yhi 

-Astha gangwar 

Astha gangwar द्वारा प्रकाशित

its me astha gangwar . I m founder of this blog. I love to write poems... I m a student of msc to chemical science.... read my poems on facebook - https://www.facebook.com/asthagangwarpoetries/ follow me on - I'm on Instagram as @aastha_gangwar_writing_soul

3 विचार “जिन्दा हूँ मैं आज भी तुझमें कहीं। &rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: