रब की मेहर है जिन्दगी। 

भीङ में भी तन्हा थी मैं 

खुद से ही कुछ खफा थी मैं 

जिन्दगी से नाराज थी मैं 

उङने को आसमानों में बेताब थी मैं 

कैसे लगते पंख उङानो को 

जब किस्मत से भी हताश थी मैं 

हर तरफ इम्तिहान की बारिश 

खुद को साबित करने की ख्वाहिश 

जिन्दगी में कुछ अधूरापन है 

उसको समझने की है एक कोशिश 

हर लम्हे में है खुद की आजमाइश 

शायद खुद की तलाश है जिन्दगी 

ख्वाब जो देखे उनसे मिलना है जिन्दगी 

खुद की खुशी औरो में ढूँढना है जिन्दगी 

जो भी है रब की मेहर है जिन्दगी। 

-आस्था गंगवार 

Bheed me bhi tanha thi mai 

Khud se hi kuch khafa thi mai

Jindgi se naraz thi mai 

Udne ko asmano me betab thi mai 

Kaise lgte pankh udano ko 

Jb kismat se Bhi hatas thi mai 

Har taraf Imtihan ki barish 

Khud ko sabit krne ki khwahish

Jindgi me kuch adhurapan h 

Usko smjhne ki h ek kosis 

Har lmhe me h khud ki ajmyish 

Shayd khud ki talash h zindagi 

Khud ki khusi auro me dhudhna h zindagi 

Jo bhi h rab ki mehr h zindagi. 

-Astha gangwar 

Astha gangwar द्वारा प्रकाशित

its me astha gangwar . I m founder of this blog. I love to write poems... I m a student of msc to chemical science.... read my poems on facebook - https://www.facebook.com/asthagangwarpoetries/ follow me on - I'm on Instagram as @aastha_gangwar_writing_soul

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: